गायत्री की शक्ति और सिद्धि - श्रीराम शर्मा आचार्य Gayatri Ki Shakti Aur Sidhdhi - Hindi book by - Sriram Sharma Acharya
लोगों की राय

आचार्य श्रीराम शर्मा >> गायत्री की शक्ति और सिद्धि

गायत्री की शक्ति और सिद्धि

श्रीराम शर्मा आचार्य

प्रकाशक : युग निर्माण योजना गायत्री तपोभूमि प्रकाशित वर्ष : 2020
पृष्ठ :60
मुखपृष्ठ : ईपुस्तक
पुस्तक क्रमांक : 15482
आईएसबीएन :00000

Like this Hindi book 0

5 पाठक हैं

गायत्री की शक्ति और सिद्धि

Gayatri Ki Shakti Aur Siddhi - a Hindi book by Sriram Sharma Acharya

संसार में जितना भी वैभव, उल्लास दिखाई पड़ता है या प्राप्त किया जाता है वह शक्ति के मूल्य पर ही मिलता है। जिसमें जितनी क्षमता होती है वह उतना हो वैभव उपार्जित कर लेता है। जीवन में शक्ति का इतना महत्वपूर्ण स्थान है कि उसके बिना कोई आनन्द नहीं उठाया जा सकता। यहाँ तक कि अनायास उपलब्ध हुए भोगों को भी नहीं भोगा जा सकता। इंद्रियों में शक्ति रहने तक ही विषय भोगों का सुख प्राप्त किय जा सकता है। ये किसी प्रकार अशक्त हो जीय तो आकर्षक से आकर्षक भोग भी उपेक्षणीय और धृणास्पद लगते हैं। नाड़ी संस्थान की क्षमता क्षीण हो जाय तो शरीर का सामान्य क्रिया कलाप भी ठोक तरह नहीं चल पाता। मानसिक शक्ति घट जाने पर मनुष्य की गणना विक्षिप्तों और उपहासास्पदों में होने लगती है। धनशक्ति न रहने पर दर-दर का भिखारी बनना पड़ता है। मित्रशक्ति न रहने पर एकाकी जीवन सर्वथा निरीह और निरर्थक होने लगता है। आत्मबल न होने पर प्रगति के पथ पर एक कदम भी यात्रा नहीं बढ़ती। जीवनोद्देश्य की पूर्ति आत्मबल से रहित व्यक्ति के लिए सर्वथा असंभव ही है।'

अतएव शक्ति का संपादन भौतिक एवं आध्यात्मिक दोनों क्षेत्रों में सफलता प्राप्त करने के लिए नितांत आवश्यक है। इसके साथ यह भी जान ही लेना चाहिए कि भौतिक जगत में पंचभूतों को प्रभावित करने तथा आध्यात्मिक विचारात्मक, भावात्मक और संकल्पात्मक जितनी भी शक्तियों है उन सब का मूल उद्‌गम एवं असीम भण्डार वह महत्तत्व ही है जिसे गायत्री के नाम से संबोधित किया जाता है।

गायत्री की शक्ति और सिद्धि

अनुक्रम

आगे....

प्रथम पृष्ठ अगला पृष्ठ >>

अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book