चन्द्रकान्ता सन्तति - 2 - देवकीनन्दन खत्री Chandrakanta Santati - 2 - Hindi book by - Devkinandan Khatri
लोगों की राय

मूल्य रहित पुस्तकें >> चन्द्रकान्ता सन्तति - 2

चन्द्रकान्ता सन्तति - 2

देवकीनन्दन खत्री

Download Book
प्रकाशक : भारतीय साहित्य संग्रह प्रकाशित वर्ष : 2011
पृष्ठ :240
मुखपृष्ठ : ई-पुस्तक
पुस्तक क्रमांक : 8400
आईएसबीएन :978-1-61301-027-3

Like this Hindi book 7 पाठकों को प्रिय

364 पाठक हैं

चन्द्रकान्ता सन्तति 2 पुस्तक का ई-पुस्तक संस्करण...

सातवाँ बयान

राजा गोपालसिंह और देवीसिंह को काशी की तरफ़ और भैरोसिंह को रोहतासगढ़ की तरफ़ रवाना करके, कमलिनी अपने साथियों को लिये हुए मायारानी के तिलिस्मी बाग की तरफ़ रवाना हुई। इस समय रात नाम-मात्र को बाकी थी। प्रायः सुबह को चलनेवाली दक्षिणी हवा ताजी खिली हुई खुशबूदार फूलों की कलियों में से अपने हिस्से की सबसे पहिली खुशबू लिये हुए अठखेलियाँ करती सामने से चली आ रही थी। हमारे बहादुर कुमार और ऐयार लोग भी धीरे-धीरे उसी तरफ़ जा रहे थे। यद्यपि मायारानी का तिलिस्मी बाग यहाँ से बहुत दूर था, मगर वह खूबसूरत बँगला, जो चश्मे के ऊपर बना हुआ था और जिसमें पहिले पहल नानक और बाबाजी (मायारानी के दारोगा) से मुलाकात हुई थी, थोड़ी ही दूर पर था, बल्कि उसकी स्याही दिखायी दे रही थी। हमारे पाठक इस बँगले को अभी भूले न होंगे और उन्हें यह बात भी याद होगी कि नानक, रामभोली को ढूँढ़ता हुआ चश्मे के किनारे चलकर इसी बँगले में पहुँचा था और इसी जगह से बेबस करके मायारानी के दरबार में पहुँचाया गया था।

इन्द्रजीत : (कमलिनी से) सूर्योदय के पहिले ही हम लोगों को अपना सफ़र पूरा कर लेना चाहिए, क्योंकि दूसरे के राज्य में, बल्कि यों कहना चाहिए कि एक दुश्मन के राज्य में लापरवाही के साथ घूमना उचित नहीं है।

कमलिनी : ठीक है, मगर हमें अब बहुत दूर जाना भी नहीं है। (हाथ का इशारा करके) वह जो मकान दिखायी देता है, बस वहीं तक चलना है।

लाडिली : वह तो दारोगा वाला बँगला है!

कमलिनी: हाँ, और मैं समझती हूँ कि जब से कम्बख्त दारोगा क़ैद हो गया है तब से वह खाली ही रहता होगा?

लाडिली : हाँ, वह मकान आजकल बिल्कुल खाली पड़ा है। वहाँ से एक सुरंग मायारानी के बाग तक गयी है, मगर उसका हाल सिवाय दारोगा के किसी को मालूम नहीं है और दारोगा ने आज तक उसका भेद किसी से नहीं कहा।

कमलिनी : ठीक है, मगर मुझे उस सुरंग से कोई मतलब नहीं, उस मकान के पास ही चश्मे के दूसरी तरफ़ एक टीला है, मैं वहाँ चलूँगी, क्योंकि आज दिन-भर उसी टीले पर बिताना होगा।

लाडिली : यदि मायारानी का कोई आदमी मिल गया तो?

कमलिनी : एक नहीं अगर दस भी हों तो क्या परवाह?

थोड़ी ही देर में यह मण्डली उस मकान के पास जा पहुँची, जिसमें दारोगा रहा करता था। कमलिनी ने चाहा कि उस मकान के बगल से होकर चश्मे के पार चली जाय और उस टीले पर पहुँचे, जहाँ जाने की आवश्यकता थी, मगर बँगले के बारामदे में एक लम्बे कद के आदमी को टहलते देख वह रुकी और उसी तरफ़ ग़ौर से देखने लगी। कमलिनी के रुकने से दोनों कुमार और ऐयार लोग भी रुक गये और सभों का ध्यान उसी तरफ़ जा रहा। सवेरा तो हो चुका था मगर इतना साफ़ नहीं हुआ था कि सौ कदम की दूरी पर कोई किसी को पहिचान सके।

उस आदमी ने भी कुँअर इन्द्रजीतसिंह की मण्डली को देखा और तेजी से इन लोगों की तरफ़ बढ़ा। कुछ पास आते ही कमलिनी ने उसे पहिचाना और कहा, "यह तो भूतनाथ है!" भूतनाथ का नाम सुनते ही शेरसिंह काँप उठा, मगर दिल कड़ा करके चुपचाप खड़ा रह गया।

कमलिनी : (भूतनाथ से) वाह वाह वाह! तुम्हारे भरोसे पर अगर कोई काम छोड़ दिया जाय तो वह बिल्कुल चौपट ही हो जाय!!

भूतनाथ : (हाथ जोड़कर) माफ कीजिएगा, मुझसे एक भूल हो गयी और इसी सबब से मैं आज्ञानुसार काशी में आपसे मिल न सका।

कमलिनी : भूल कैसी?

भूतनाथ : नागर को लिये हुए मैं आपके मकान की तरफ़ जा रहा था। एक दिन तो बखूबी चला गया, दूसरे दिन जब बहुत थक गया तो एक पहाड़ी के नीचे घने जंगल में उसकी गठरी रखकर सुस्ताने के लिए ज़मीन पर लेट गया, यकायक कम्बख्त नींद ने धर दबाया और मैं सो गया। जब आँख खुली तो नागर को अपने पास न देखकर घबरा गया और उसे चारों तरफ़ ढूँढ़ने लगा, मगर कहीं पता न लगा।

कमलिनी : अफसोस!

भूतनाथ : कई दिन तक ढूँढ़ता रहा, आख़िर भेष बदलकर जब काशी में आया तो ख़बर लगी कि नागर अपने मकान में मौजूद है। इसके बाद मैं गुप्त रीति से मायारानी के तिलिस्म बाग के चारों तरफ़ घूमने लगा, वहाँ पता लगा कि दोनों कुमार और उनके ऐयारों को, जिन्हें मायारानी ने क़ैद कर रक्खा था कोई छुड़ाकर ले गया, मैं उसी समय समझ गया कि यह काम आपका है, बस तभी से आपको ढूँढ़ रहा हूँ, इस समय इत्तिफाक से इधर आ निकला।

कमलिनी : (कुछ सोचकर) तुम अपने को बड़ा होशियार लगाते हो, मगर वास्तव में कुछ भी नहीं हो! ख़ैर, हम लोगों के साथ चले आओ।

भूतनाथ को साथ लिये हुए कमलिनी वहाँ से रवाना हुई और चश्मे के पास से होकर उस टीले के पास पहुँची, जिसके ऊपर जाने का इरादा था। कमलिनी जब अपने साथियों को पीछे-पीछे आने के लिए कहकर टीले के ऊपर चढ़ने लगी, तब शेरसिंह ने टोक दिया और कहा, "यदि कोई हर्ज़ न हो तो मेरी एक बात पहिले सुन लीजिए।"

कमलिनी : आप जो कुछ कहेंगे, मैं पहिले ही समझ गयी, आप चिन्ता न कीजिए और चले आइए।

शेर : ठीक है, मगर जब तक मैं कुछ कह न लूँगा, जी न मानेगा।

कमलिनी : (हँसकर) अच्छा कहिए।

शेरसिंह को अपने साथ आने का इशारा करके कमलिनी टीले के दूसरी तरफ़ चली और दोनों कुमार तेजसिंह, तारासिंह, लाडिली और भूतनाथ को टीले के ऊपर धीरे-धीरे चढ़ने के लिए कह गयी। टीले के पीछे निराले में पहुँचने पर शेरसिंह ने अपने दिल का हाल कहना शुरू किया–

"चाहे आप भूतनाथ को कैसा ही नेक और ईमानदार समझती हों मगर मैं इतना कहे बिना नहीं रह सकता कि आप उस बेईमान शैतान पर भरोसा न कीजिए।"

कमलिनी : मैं पहिले ही समझ गयी थी कि आप यही बात मुझसे कहेंगे। इसमें कोई सन्देह नहीं कि भूतनाथ ने जो कुछ काम किये हैं, वह उसकी नेकनामी, ईमानदारी और ऐयारी में बट्टा लगाते हैं, परन्तु आप कोई तरद्दुद न कीजिए, मैं बड़े-बड़े बेईमानों से अपना मतलब निकाल लेती हूँ, मेरे साथ वह अगर ज़रा भी दगा करेगा तो उसे बेकाम करके छोड़ दूँगी।

शेरसिंह : मैं समझता हूँ कि आप उसका पूरा-पूरा हाल नहीं जानतीं।

कमलिनी : भूतनाथ यद्यपि तुम्हारा भाई है, मगर मैं उसका हाल तुमसे भी ज़्यादे जानती हूँ। तुम्हें डर है तो इसी बात का न कि यदि कुमारों को मालूम हो जायगा कि वह तुम्हारा भाई है, तो तुम्हारी तरफ़ से उनका दिल मैला हो जायगा या भूतनाथ अगर कोई बुराई कर बैठेगा, तो मुफ्त में तुम भी बदनाम किये जाओगे!

शेरसिंह : हाँ हाँ, बस इसी सोच में मैं मरा जाता हूँ!

कमलिनी : तो तुम निश्चिन्त रहो, तुम्हारे सिर कोई बदनामी न आवेगी, जो कुछ होगा, मैं समझ लूँगी।

शेरसिंह : अख्तियार आपको है, मुझे जो कुछ कहना था, कह चुका।

दोनों कुमार और उनके साथी लोग टीले पर चढ़ चुके थे, इसके बाद शेरसिंह को अपने साथ लिये हुए कमलिनी भी वहाँ जा पहुँची। टीले के ऊपर की अवस्था देखने से मालूम होता था कि किसी जमाने में वहाँ पर ज़रूर कोई खूबसूरत मकान बना हुआ होगा, मगर इस समय तो एक कोठरी के सिवाय वहाँ और कुछ भी मौजूद न था। यह कोठरी बीस-पचीस आदमियों के बैठने योग्य थी। कोठरी के बीचोबीच पत्थर का एक चबूतरा बना हुआ था, और उसके ऊपर पत्थर ही का शेर बैठा था। कमलिनी ने उसी जगह सभों को बैठने के लिए कहा और भूतनाथ की तरफ़ देखकर बोली, "इसी जगह से एक रास्ता मायारानी के तिलिस्मी बाग में गया है। तुम्हें छोड़ सब लोगों को लेकर मैं वहाँ जाऊँगी और कुछ दिनों तक उसी बाग में रहकर अपना काम करूँगी। तब तक के लिए एक दूसरा काम तुम्हारे सुपुर्द करती हूँ, आशा है कि तुम बड़ी होशियारी से उस काम को करोगे।"

भूतनाथ : जो कुछ आज्ञा हो, मैं करने को तैयार हूँ, मगर इस समय सबके पहिले मैं दो-चार बातें आपसे कहा चाहता हूँ, यदि आप एकान्त में सुन लें तो ठीक है।

कमलिनी : कोई हर्ज़ नहीं, तुम जो कुछ कहोगे, मैं सुनने के लिए तैयार हूँ।

इतना कहकर भूतनाथ को साथ लिये कमलिनी उस कोठरी के बाहर निकल आयी और दूसरी तरफ़ एक पत्थर की चट्टान पर बैठकर भूतनाथ से बातचीत करने लगी। दो घड़ी से ज़्यादे दोनों में बातचीत होती रही, जिसे इस जगह लिखना हम मुनासिब नहीं समझते। अन्त में भूतनाथ ने अपने बटुए में से कलम-दावात और काग़ज़ का टुकड़ा निकालकर कमलिनी के सामने रख दिया। कमलिनी ने एक चीठी अपने बहनोई राजा गोपालसिंह के नाम लिखी और उसमें यह लिखा कि 'भूतनाथ को यह चीठी देकर हम तुम्हारे पास भेजते हैं। इसे बहुत ही नेक और ईमानदार समझना और हरएक काम में इसकी राय और मदद लेना। यदि यह किसी जगह ले जाय तो बेखटके चले जाना और यदि अपनी इच्छानुसार कोई काम करने के लिए कहे तो उसमें किसी तरह का शक न करना। मैं इससे अपना भेद नहीं छिपाती और इसे अपना विश्वासपात्र समझती हूँ।' इसके बाद हस्ताक्षर और एक निशान करके वह चीठी भूतनाथ के हवाले की और कहा कि 'बस तुम इसी समय मनोरमा के मकान की तरफ़ चले जाओ और राजा गोपालसिंह से मिलकर काम करो या जो मुनासिब हो करो, मगर देखो, खूब होशियारी से काम करना, मामला बहुत नाजुक है और तुम्हारे ईमान में ज़रा-सा फर्क पड़ेगा तो मैं बहुत बुरी तरह पेश आऊँगी'!

"आप हर तरह से बेफिक्र रहिए!" कहकर भूतनाथ टीले के नीचे उतर आया और देखते-देखते सामने के जंगल में घुसकर गायब हो गया।

...पीछे | आगे....

<< पिछला पृष्ठ प्रथम पृष्ठ अगला पृष्ठ >>

अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book