आत्मिक प्रगति के लिए अवलम्बन की आवश्यकता - श्रीराम शर्मा आचार्य Atmik Pragati Ke Liye Avlamban Ki Aavashyakta - Hindi book by - Sriram Sharma Acharya
लोगों की राय

नई पुस्तकें >> आत्मिक प्रगति के लिए अवलम्बन की आवश्यकता

आत्मिक प्रगति के लिए अवलम्बन की आवश्यकता

श्रीराम शर्मा आचार्य

प्रकाशक : युग निर्माण योजना गायत्री तपोभूमि प्रकाशित वर्ष : 2020
पृष्ठ :32
मुखपृष्ठ : ईपुस्तक
पुस्तक क्रमांक : 15472
आईएसबीएन :000000

Like this Hindi book 0

5 पाठक हैं

आत्मिक प्रगति के लिए अवलम्बन की आवश्यकता

तथ्य समझने के उपरान्त ही गुरुदीक्षा की बात सोचें


गुरुदीक्षा का दान-गुरु दक्षिणा है। कलमी आम में एक टहनी बाहर से काटकर लगाई चिपकाई जाती है। जिस पेड़ में चिपकाते हैं वह उस टहनी को अपना रस देना आरम्भ कर देते हैं। दोनों जुड़ जाते हैं तो कलमी आम बनता है, उस पर मोटे, बड़े, जल्दी और कीमती फल आते हैं। टहनी लगाना गुरु-दीक्षा है और रस देना गुरुदक्षिणा। दोनों का अन्योन्याश्रित सम्बन्ध है। एक पक्ष शिथिल पड़ेगा, तो दूसरे का श्रम व्यर्थ चला जायेगा।

गुरु को अपना तप, पुण्य और प्राण शिष्य को हस्तान्तरित करना पड़ता है। शिष्य को अपनी श्रद्धा, विश्वास, समयदान-अंशदान सत्यप्रयोजनों के लिए प्रस्तुत करना होता है।

पूज्य गुरुदेव को उनके महा-गुरुदेव ने जो अजस्त्र अनुदान दिया है, उस पूँजी को पूज्य गुरुदेव ने भी उन्हीं शर्तों पर हस्तान्तरित किया है, जिस पर कि उन्हें मिला है।

पूज्य गुरुदेव एक महान् मिशन का प्रतिनिधित्व करते हैं। वे व्यक्ति नहीं एक मिशन हैं। उनकी न तो निजी माँग रही है, न आवश्यकता। अनुदान का प्रतिदान उनके मिशन के निमित समयदान-अंशदान के रूप में ही नियमित रूप से करना होता है। ताली दोनों हाथों से बजती है, गाड़ी दो पहियों पर चलती है। अंधे और पंगु ने मिल-जुल कर नदी पार की थी। गुरु और शिष्य को अपने-अपने उत्तरदायित्व निभाने होते हैं। जो पीछे हटता है, वह घाटे में रहता है।

...पीछे | आगे....

<< पिछला पृष्ठ प्रथम पृष्ठ अगला पृष्ठ >>

अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book