Raushani Mahakti Hai - Hindi book by - Satya Prakash Sharma - रौशनी महकती है - सत्य प्रकाश शर्मा
लोगों की राय

नई पुस्तकें >> रौशनी महकती है

रौशनी महकती है

सत्य प्रकाश शर्मा

प्रकाशक : भारतीय साहित्य संग्रह प्रकाशित वर्ष : 2020
पृष्ठ :112
मुखपृष्ठ : ईपुस्तक
पुस्तक क्रमांक : 15468
आईएसबीएन :978-1-61301-551-3

Like this Hindi book 0

5 पाठक हैं

‘‘आज से जान आपको लिख दी, ये मेरा दिल है पेशगी रखिये’’ शायर के दिल से निकली गजलों का नायाब संग्रह


60

मंजिल का निशां मील का पत्थर न मिलेगा


मंजिल का निशां मील का पत्थर न मिलेगा
आराम रह-ए-इश्क़ में दम भर न मिलेगा

आँखों को कोई ख़्वाब का मंज़र न मिलेगा
जब नींद सताएगी तो बिस्तर न मिलेगा

ये प्यार तुझे और कहीं पर न मिलेगा
‘तुझको तेरे घर जैसा कहीं घर न मिलेगा’

अच्छा ये ज़माने का है दस्तूर समझ ले
चाहेगा जिसे तू वही अक्सर न मिलेगा

उनसे जो हुये दूर तो सोचा भी नहीं था
अब चाँद हमें फिर कभी छत पर न मिलेगा

है रौब तेरा आज भी ‘ग़ालिब’ तेरे पीछे
सबको तो ‘असद’ ऐसा मुक़द्दर न मिलेगा

आलिम न कभी छोड़ेगा इख़लाक का दामन
जाहिल तो किसी से कभी हँसकर न मिलेगा

मुमकिन है कि आईने से डर जाए कोई शख़्स
आईना किसी शख़्स से डरकर न मिलेगा

0 0 0

...पीछे | आगे....

<< पिछला पृष्ठ प्रथम पृष्ठ अगला पृष्ठ >>

लोगों की राय

No reviews for this book