प्रतिभार्चन - आरक्षण बावनी - सारंग त्रिपाठी Pratibharchan - Aarkshan Bavani - Hindi book by - Saarang Tripathi
लोगों की राय

नई पुस्तकें >> प्रतिभार्चन - आरक्षण बावनी

प्रतिभार्चन - आरक्षण बावनी

सारंग त्रिपाठी

प्रकाशक : भारतीय साहित्य संग्रह प्रकाशित वर्ष : 1985
पृष्ठ :40
मुखपृष्ठ : ईपुस्तक
पुस्तक क्रमांक : 15464
आईएसबीएन :0

Like this Hindi book 0

5 पाठक हैं

५२ छन्दों में आरक्षण की व्यर्थता और अनावश्यकता….



संकल्प




जिस तरह रहना पड़े रह लेंगे हम,

फूल-काँटे जो मिलें सहलेंगे हम।

बात यदि कोई हलक तक आ गई,

लाख ताले  हों पड़े   कह लेंगे हम।








0 0 0


...पीछे | आगे....

<< पिछला पृष्ठ प्रथम पृष्ठ अगला पृष्ठ >>

लोगों की राय

No reviews for this book