मंजरी - आशापूर्णा देवी Manjari - Hindi book by - Ashapurna Devi
लोगों की राय

नई पुस्तकें >> मंजरी

मंजरी

आशापूर्णा देवी

प्रकाशक : सन्मार्ग प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2001
पृष्ठ :167
मुखपृष्ठ : ईपुस्तक
पुस्तक क्रमांक : 15409
आईएसबीएन :0000000000

Like this Hindi book 0

5 पाठक हैं

आशापूर्णा देवी का मर्मस्पर्शी उपन्यास....

9

बड़ी देर तक कुछ सोच न सकी।

सोचते ही नहीं बना।

अचानक एक बड़ी चोट खाने पर जैसे आघात खाई जगह कुछ देर के लिए सुन्न पड़ जाती है, उसी तरह मन सुन्न पड़ गया मंजरी का।

नीचे से जब ऊपर आ रही थी तब उसने सोचा था, मंजरी को अकेले मुसीबत के मुंह में धकेल देने के लिए अभिमन्यु को अभिमान भरी बातें कहेगी, किस तरह से 'सोचकर बताऊंगी' कहकर भयंकर हालत से छुटकारा मिला है-काश अभिमन्यु छिपकर देखता। देखता तो समझता।

लेकिन यह सब कुछ नहीं हुआ।

स्तब्ध बैठे रहते न जाने कहां से कितनी तरह की चिंतायें आने लगीं। उन चिंताओं की लहरे मंजरी को बहा ले चलीं। मुसीबत? लेकिन मंजरी क्या इसी मुसीबत की मन-ही-मन प्रार्थना नहीं कर रही थी? अभी कुछ दिन पहले मंजरी ने जीजाजी को अपने हाथों से चिट्टी लिखी थी अभिमन्यु से छिपाकर। दूसरी बार फिल्मों में काम करने की इच्छा प्रकट की थी।

ये लोग जीजाजी के भेजे हुये आदमी भी तो हो सकते हैं? या कि ईश्वर प्रेरित?

मंजरी के गुप्त प्राणों की प्रार्थना सुनी है उन्होंने और भेजा था अभिष्ट पूर्ण करने का अवसर। इस अवसर को क्या मुसीबत कहकर अस्वीकार दे मंजरी?

छोटी-छोटी लाइनें, टूट-टूटकर मन में बिखरकर इधर-उधर गिर रही थीं। मंजरी के मन की द्विविधा भी टूटती गयी।

"अपनी क्षमता के बारे में आपकी कोई धारणा नहीं है मंजरीदेवी।"  

"आश्चर्य की बात करती हैं? अरे आज के जमाने में निंदा कोई करता है क्या?"

"हां जरूर... आजकल तो संभ्रांत घरों की महिलायें ही इस लाइन में ज्यादा आती हैं... ''

"विश्वास न हो तो अनुग्रह करके एक बार मेरे घर आइए. ''

"किसने आपसे कहा है? घर से भागी लड़की? हा हा हा हा... आप भी क्या कहती हैं? बाप लड़की को लेकर पति-पत्नी को लेकर हाथ पांव जोड़ रहे हैं... ''

"सभी में क्या प्रतिभा का अंकुर रहता है मंजरीदेवी?"

इसीलिए जो लोग हाथ पांव जोड़ते हैं उन्हें 'बाहर जाने का रास्ता' दिखाकर जौहरी परिचालक गगन घोष 'जौहर' के दरवाजे पर आकर हाथ पांव जोड़ रहे थे।

मंजरी खुद नहीं जानती थी।

जानती नहीं थी कहां छिपा है उसकी प्रतिभा का वह अग्नि भंडार। जिसकी एक चिंगारी से उन्होंने मंजरी का आविष्कार कर डाला था।

पर अब मंजरी क्या करे?

काश, अभिमन्यु उसकी इस चिंता का भागीदार होता? लेकिन क्यों? अभिमन्यु की इस असहयोगिता की वजह क्या है?

विजयभूषण उल्लसित होकर बोले, "ये देख! मन-ही-मन जो चाहती थी, हाथों हाथ वही पा गयी, फिर यह सूखा उतरा चेहरा क्यों? बल्कि चाह रही थी चार आना, पा गयी सोलह आने। यह तो इधर से आवेदन निवेदन नहीं, उस पक्ष की ओर से आवेदन निवेदन है। यह तो आशा से अधिक है।"

सुनीति तीव्र आपत्ति कर उठी, "लड़की की बर्बादी चाहते हो? जैसा देख रही हूं उसके पतन के तुम ही जिम्मेदार हुए।"

"ओ हो, एक किसी को तो जिम्मेदार होना ही पड़ेगा न? पर मुझे बड़ा मजा आ रहा है। गगन घोष घर आकर खुशामद कर जाये... अहा! लग जाओ साली। लेकिन हां, अब शौकीन अभिनय नहीं। मोटी रकम मांगो और अकड़कर बैठी रहो-देखना ठीक देंगे। उनका जिसे लेने का दिल करना है उसके लिए... ''

"चुप रहो तुम।" गरज उठीं सुनीति, "पैसा लेकर करने के मतलब ही हुए पेशेदार हो जाना।"

विजय बाबू हताश होकर बोले, "बड़ी मुश्किल है। इस दुनिया में कौन पेशेदार नहीं है? हर एक का कोई न कोई पेशा तो है न?"

"रहने दो। इसके ये मतलब तो नहीं कि शरीफ घर की लड़की रूप गुण बेचकर पैसा... "

"धीरे सुनीति धीरे! रूप की बात क्यों उठाती हो? रूप तो तुम्हारी छोटी बहन से आज भी तुम्हारा ज्यादा है। पर तुम्हें कोई आफर देगा? कोई नहीं। पर हां, गुण की बात ठीक है। लेकिन गुण बेचकर पैसा कौन नहीं ले रहा है? गायिकायें नहीं ले रही हैं? बचाने वाले? लेखिकायें? चित्रकारा? शिक्षिका? सिलने वाली? बुनने वाली? कौन नहीं?''

सुनीति ने क्रुद्ध दृष्टि से देखते हुए उत्तर ढूंढ़ना चाहा ही था कि विजय बाबू आगे बोले, "अरे सुनो जी। असल में मंजू की तरह मेरी भी इच्छा हुई है कि लड़की एक पूरा बढ़िया रोल करके अपनी कैपेसिटी दिखा दे सबको! बस-यही आखिरी बार।"

मन-ही-मन ऐसी ही प्रतिज्ञा करके अनुबंध-पत्र पर हस्ताक्षर किए मंजरी ने। यही आखिरी बार।

है अभिलाषा पूरी करने की उन्मादना है, अनुरोध के हाथों से छुटकारा पाने की स्वस्ति, है डर, है अभिमान, है असहायता।

एक तरुण हृदय, कैसे वहन करे इतना सारा बोझ?

और शरीर के भीतर तिल-तिल बढ़ता अनजाने अनुभूति का भार? उसके लिए कितना आतंक कितनी यंत्रणादायक खुशी मानो किसी एक निरवलंब अनिश्चयता के बीच रास्ता खोती जा रही है मंजरी, ऐसा कोई भी नहीं है जो उसे भरोसा दिलाए, हाथ बढ़ाकर सहायता दे।

रह-रहकर शरीर की ग्रंथियां असह्य यातना से ऐंठने लगती हैं, दिल थर-थर कांपने लगता है, अकारण ही आंखों के कोर भीगने लगते हैं।

लेकिन किसी से कह नहीं सकती है।

किसे कहे?

जिसे सब कुछ बता सकती थी, आवेश और आवेगवश, लज्जा और गौरव से, वह कांच की दीवार के उस तरफ खड़ा हो जैसे। आंखों की सीमा में है स्पर्श की सीमा में नहीं। और हैं दीदी।

उन्हें कुछ बताते हुए डर लगता है। अगर वह कठोर शासन की धमकी देकर बंद कर दे मंजरी का फिल्मों में काम? इसी डर से दीदी से कुछ कहने से कतराती रही।

हैं एक जने और। लेकिन बड़ी प्रखर है उनकी उपस्थिति। उठते बैठते उपदेशों के बाणों से जर्जरित करके छोड़ेगी मंजरी को। हां-पूर्णिमादेवी को अत्यंत सावधानी से तंग मंजरी उन्हें नई चेतना का इंगीत, नयी अनुभूति का आभास बताने से डरती। उन्हें शारीरिक किसी उपसर्ग के कारण हो रही अस्वस्ति के बारे में भी बताते नहीं बनता।

अतएव हर समय हंसना पड़ता है मंजरी को।

पूर्णिमा की दुश्चिता के भय और सावधान वाणी को हंसकर टालना पड़ता है। कहना पड़ता है, "आप भी क्या कहती हैं। मैं तो कुछ समझ ही नहीं पाती हूं-जैसी पहले थी वैसी ही तो हूं।"

देह से मन से।

ठीक जैसी थी, ठीक वैसी ही है, यह दिखाने की कोशिश में, कोशिश करने का कोई अंत न था। वेवक्त लेटने की इच्छा हो तो तनकर बैठी रहती। विश्राम की आवश्यकता को जताने के लिए मेरुदंड ऐंठने लगता फिर भी पीठ सीधा रखे बैठी रहती मंजरी। जब तक न रात हो, तब तक बिस्तर से पीठ नहीं छुलाती थी।

न खा-खाकर कमजोरी बढ़ती जा रही थी, यह बात बता नहीं सकती थी। जिस अपराध की काँपी में हस्ताक्षर किए बैठी है उससे कहीं नाम ही न खारिज हो जाए, कहीं ये लोग मेडिकल सर्टिफिकेट दिखाकर मंजरी की आजादी न छीन ले-डर इन बातों का था।

ये बड़े शर्म की बात थी।

बहुत बढ़िया कहानी। लगभग 'सावित्री सत्यवान' के उपख्यान जैसी। दर्शकों की डिमांड का ध्यान रखकर गगन घोष ने स्वयं ही कहानी खड़ी कर ली थी। और सच तो ये है कि कहानी खड़ी करना ऐसा कौन सा कठिन कार्य है? गगन घोष के तो समझ में नहीं आता है कि और पांच लोग 'कहानी कहानी' करके क्यों मरते हैं? लाइब्रेरी उजाड़कर कहानियां पढ़ रहे हैं, कहानी लेखकों के पास भाग- दौड़कर रहे हैं, अकारण ही इन लेखकों को पैसा दे रहे हैं, जबकि जरूरत क्या है? कुछ नहीं। सिर्फ अपव्यय।

आजकल लेखकों का दिमाग सातवें आसमान पर चढ़ा रहता है। वर के पिता की तरह मांगें हैं, भाव-ताव करते हैं। गगन घोष ऐसे लोगों से मतलब ही नहीं रखते हैं। इस काम में रखा क्या है? जितना बड़ा लेखक, उसकी कहानी में उतनी ही बातें। इस बातों के समुद्र से कहानी का उद्धार करने में क्या कम समय नष्ट होता है?

जबकि कोई जरूरत नहीं है।

गगन घोष को चाहिए फिल्म। मनस्तत्व वाली बातों से उन्हें करना क्या है? इससे अच्छा है अपने 'जरूरत की कहानी तैयार कर ली, झमेला मिट गया। उसमें फालतू बातें रहती नहीं है। कुछ भी करना नहीं रहता है, पहले कुछ 'सिचुएशन' क्रियेट करके मन-ही-मन उसे देख लो, सोच लो कौन से कलाकार इसके लिए ठीक होंगे, भूमिकाओं में खप सकेंगे-बस! उसके बाद चतुराई से इन सभी सिचुएशनों को इकट्ठा करके एक कहानी बना लो। और क्या चाहिए?

फिल्म बनाने के लिए असल में चाहिए एक प्रयोजक। एक मोटा पैसे वाला प्रयोजक मिल गया तो फिल्म बनने में कोई दिक्कत नहीं। वरना कहानी? हुं:! वह तो गौण है।

दो ही दिन बैठे होंगे कि यह कहानी 'कमलिका' लिख डाली है गगन घोष ने। इसमें क्या नहीं है? जैसे गाना है, नाच है, हंसी मजाक है, तो दुःख का समुद्र है शोक का अग्निदहन है। बाग बागीचा भी है तो श्मशान भी है। एक अदालत के दृश्य के वगैर फिल्म अधूरी समझी जाती है इसलिए वह भी है। एक रोगशय्या और डाक्टर चाहिए, वह भी रख लिया है। एक काना लंगड़ा कुबड़ा गूंगा बहरा या विकलांक न हुआ तो फिल्म जमती नहीं है अतएव वह भी है।

...पीछे | आगे....

<< पिछला पृष्ठ प्रथम पृष्ठ अगला पृष्ठ >>

अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book