अंतस का संगीत - अंसार कम्बरी Antas Ka Sangeet - Hindi book by - Ansar Qumbari
लोगों की राय

कविता संग्रह >> अंतस का संगीत

अंतस का संगीत

अंसार कम्बरी


E-book On successful payment file download link will be available
प्रकाशक : भारतीय साहित्य संग्रह प्रकाशित वर्ष : 2016
पृष्ठ :113
मुखपृष्ठ : Ebook
पुस्तक क्रमांक : 9545
आईएसबीएन :9781613015858

Like this Hindi book 8 पाठकों को प्रिय

397 पाठक हैं

मंच पर धूम मचाने के लिए प्रसिद्ध कवि की सहज मन को छू लेने वाली कविताएँ


आह न की


अनगिन जख्म मिले हैं अब तक
हमने लेकिन आह न की

बंदी रहे न जाने कब से
मौसम की जंजीरों में
देख रहे हैं हरित-क्रान्ति
पतझर की तस्वीरों में

तपती रेत तेज सूरज की
हमने तो परवाह न की

रहने को मजबूर हो गये
शहर बीच वीरानों में
सुनते आये जलाशयों के
किस्से रेगिस्तानों में

छाया मिले हमें मेघों की
हमने ऐसी चाह न की

रूखा-सूखा ही खाया है
बड़े-बड़े त्योहारों में
खाली जेब लिये घूमे हैं
सजे - धजे बाजारों में

जिस पर चलना पड़े उछल कर
हमने ऐसी राह न की

* *

...पीछे | आगे....

<< पिछला पृष्ठ प्रथम पृष्ठ अगला पृष्ठ >>

अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book