गायत्री की असंख्य शक्तियाँ - श्रीराम शर्मा आचार्य Gayatri Ki Asankhya Shaktiyan - Hindi book by - Sriram Sharma Acharya
लोगों की राय

आचार्य श्रीराम शर्मा >> गायत्री की असंख्य शक्तियाँ

गायत्री की असंख्य शक्तियाँ

श्रीराम शर्मा आचार्य

प्रकाशक : युग निर्माण योजना गायत्री तपोभूमि प्रकाशित वर्ष : 2020
पृष्ठ :60
मुखपृष्ठ : ईपुस्तक
पुस्तक क्रमांक : 15484
आईएसबीएन :00000

Like this Hindi book 0

5 पाठक हैं

गायत्री की शक्तियों का विस्तृत विवेचन

अर्कमंडलसंस्थिता


अर्क अर्थात् सूर्य के मंडल में बैठी हुई गायत्री का ही ध्यान पूजन किया जाता है। चित्रों में गायत्री माता को सूर्य मंडल में विराजमान ही चित्रित किया गया है। इस दृश्य सूर्य को प्राणतत्व का केंद्र माना गया है। उससे केवल उष्णता या प्रकाश ही उपलब्ध नहीं होता वरन् वह समस्त संसार को प्राण भी देता है। प्राणियों में जो जीवन दिखाई देता है वह सूर्य से ही उद्भूत होता है। यदि सूर्य न हो तो इस पृथ्वी पर एक भी जीवित प्राणी दृष्टिगोचर नहीं हो सकता। सूर्य मंडल में जो प्राणशक्ति के रूप में विराजमान है वह गायत्री ही है। गायत्री शब्द का यही अर्थ है। 'गय' कहते हैं प्राण को और 'त्र' कहते हैं त्राण की। प्राणों का त्राण करने वाली जो शक्ति सूर्य मंडल के माध्यम से इस पृथ्वी पर आती है वह गायत्री है। प्रकाश और उष्णता, ज्ञान और पुरुषार्थ भी उसी दिशा के दो सहायक तत्त्व हैं।

...पीछे | आगे....

<< पिछला पृष्ठ प्रथम पृष्ठ अगला पृष्ठ >>

अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book