गीले पंख - रामानन्द दोषी Geeley Pankh - Hindi book by - Ramanand Doshi
लोगों की राय

नई पुस्तकें >> गीले पंख

गीले पंख

रामानन्द दोषी

प्रकाशक : आत्माराम एण्ड सन्स प्रकाशित वर्ष : 1959
पृष्ठ :90
मुखपृष्ठ : ईपुस्तक
पुस्तक क्रमांक : 15462
आईएसबीएन :0

Like this Hindi book 0

5 पाठक हैं

श्री रामानन्द 'दोषी' के काव्य-संग्रह ‘गीले पंख' में 33 कविताएं हैं…


6

शायद

 
एक टूटी-सी हिचकी, मेरी याद तुम्हें हो आई शायद !
 

जुड़ पाया सुधियों का मेला,
कैसे तिमिर किरन सँग खेला;
कैसे मीत प्रीत को भूले --
साथ रहा बस दर्द अकेला;

उस सूनी बँसवट के पीछे --
बड़े बड़े दृग आधे मींचे --
अनजाने यह कथा व्यथा की तुम ने ही दोहराई शायद !
 
भीगे-भीगे पंख पसारे,
धौले, धूमिल, घन कजरारे;
मेघों के तिर आये पंछी --
अपनी अपनी पाँत सँवारे;

उझक झरोखे चंदा झाँका --
किसी सलज चितवन-सा बाँका--
यह पँचरंगी चूनर अम्बर में तुम ने फहराई शायद !

नभ से बूंद-फुहारे छूटे,
सरिता के तट-बन्धन टूटे;
ऐसे में आँसू के बन कर --
जल में कई बताशे फूटे;

झिलमिल-सी उन में परछाईं--
देख विवश-सी तुम मुसकाईं--
सूनी सूनी मांग सिंदूरी हो कर फिर अकुलाई शायद !
 

0 0 0

...पीछे | आगे....

<< पिछला पृष्ठ प्रथम पृष्ठ अगला पृष्ठ >>

लोगों की राय

No reviews for this book