गीले पंख - रामानन्द दोषी Geeley Pankh - Hindi book by - Ramanand Doshi
लोगों की राय

नई पुस्तकें >> गीले पंख

गीले पंख

रामानन्द दोषी

प्रकाशक : आत्माराम एण्ड सन्स प्रकाशित वर्ष : 1959
पृष्ठ :90
मुखपृष्ठ : ईपुस्तक
पुस्तक क्रमांक : 15462
आईएसबीएन :0

Like this Hindi book 0

5 पाठक हैं

श्री रामानन्द 'दोषी' के काव्य-संग्रह ‘गीले पंख' में 33 कविताएं हैं…


26

कौन जाने !


कौन जाने कल, खबर पल की नहीं,
क्या मिलेगा आज फिर इनकार में।

जब कि आ कर ही रहेगी कल प्रलय,
हो न सकती जब नियति कुछ भी सदय
किस लिए चिन्ता करूँ मैं व्यर्थ फिर -
वार दूँ क्यों उस प्रलय पर यह प्रणय ?

देख लूँगा आएगा जो कल उसे -
आज लेकिन बाँध लो अँकवार में।

आज का विश्वास ही विश्वास है,
आज का इतिहास ही इतिहास, है;
कल अगर अमृत मिले, वह व्यर्थ है -
आज अधरों पर बला की प्यास है

क्या करूँगा मैं किनारा खोज कर -
लक्ष्य मिल जाए अगर मँझधार में।

वीण भी मुझ को मधुर, झंकार भी,
गीत भी मुझ को मधुर, स्वरकार भी
हार हो या जीत, क्या इस से मुझे -
जीत से भी प्यार, प्यारी हार भी;
 
हार की मुझ को छुएगी क्यों जलन -
जब कि तुम चन्दन बनो अंगार में।

हर कली की चाह बनना फूल है,
फूल का अन्तिम चरण, पर, धूल है;
इस लिए दिल का लगाना फूल से -
कह रही दुनिया- सरासर भूल है ;

भूल का लेकिन करो उपहास मत
भूल ही है ज़िन्दगी संसार में।

कौन जाने पुण्य क्या है, पाप क्या,
क्या पता वरदान क्या, अभिशाप क्या !
नेह देखा जिस जगह, सिर झुक गया -
और क्या होगी इबादत, जाप क्या ?
 
नेह की अवहेलना ही पाप है
पुण्य बँध जाना किसी के प्यार में।

0 0 0

...पीछे | आगे....

<< पिछला पृष्ठ प्रथम पृष्ठ अगला पृष्ठ >>

लोगों की राय

No reviews for this book