गीले पंख - रामानन्द दोषी Geeley Pankh - Hindi book by - Ramanand Doshi
लोगों की राय

नई पुस्तकें >> गीले पंख

गीले पंख

रामानन्द दोषी

प्रकाशक : आत्माराम एण्ड सन्स प्रकाशित वर्ष : 1959
पृष्ठ :90
मुखपृष्ठ : ईपुस्तक
पुस्तक क्रमांक : 15462
आईएसबीएन :0

Like this Hindi book 0

5 पाठक हैं

श्री रामानन्द 'दोषी' के काव्य-संग्रह ‘गीले पंख' में 33 कविताएं हैं…


19

कहाँ अन्त है ?

 
पग थके जा रहे, पथ बढ़ा जा रहा,
इस सफ़र का बताओ कहाँ अन्त है ?

एक आई लहर, नाव तिरने लगी,
एक भँवर आ गई, घूम-फिरने लगी;
एक कहानी नियति ने लिखी इस तरह -
होंठ हँसने लगे, आँख झिरने लगी;

तुम कहे जा रहे, मैं सुने जा रहा,
इस कथा का बतानो कहाँ अन्त है ?
 
रात भर चाँद की आँख रोई बड़ी,
पालकी चाँदनी की संजोई खड़ी ;
पर धरा की निगोड़ी दुल्हन बाँह पर -
गाल रख कर अलस मौन सोई पड़ी ;

औ' प्रणय का पहर यों लुटा जा रहा,
इस व्यथा का बतायो कहाँ अन्त है ?

एक क्षण यदि हँसी का कभी जुट गया,
कारवाँ साँस का राह में लुट गया;
ज़िन्दगी आँसुओं में रही भीगती --
प्यार का शव बिना ही कफ़न उठ गया

दान जितना किया, ऋण बढ़ा जा रहा,
रूप की याचना का कहाँ अन्त है ?

0 0 0

...पीछे | आगे....

<< पिछला पृष्ठ प्रथम पृष्ठ अगला पृष्ठ >>

लोगों की राय

No reviews for this book