गीले पंख - रामानन्द दोषी Geeley Pankh - Hindi book by - Ramanand Doshi
लोगों की राय

नई पुस्तकें >> गीले पंख

गीले पंख

रामानन्द दोषी

प्रकाशक : आत्माराम एण्ड सन्स प्रकाशित वर्ष : 1959
पृष्ठ :90
मुखपृष्ठ : ईपुस्तक
पुस्तक क्रमांक : 15462
आईएसबीएन :0

Like this Hindi book 0

5 पाठक हैं

श्री रामानन्द 'दोषी' के काव्य-संग्रह ‘गीले पंख' में 33 कविताएं हैं…


10

तुम्हारी पाती


मन कुछ का कुछ और हो गया, पाई पाती आज तुम्हारी !

चाँद उगा, कोई उन्मन है,

और किसी के पुलक नयन हैं;
सौ-सौ अर्थ लगाती दुनिया --
यह तो अपना अपना मन है;

बोलो, मैं क्या अर्थ लगाऊँ ?
समझूँ, औरों को समझाऊँ ?
पुलक उदासी घेरे बैठी छवि मुसकाती आज तुम्हारी !
 
जब भी संयम घट भर आता,
नेह निगोड़ा ढुरका जाता;
मेरी व्यथा-कथा अनहोनी --
सम्बल दुख-कातर कर जाता;

सुन कर यह पहले मुसकाए,
फिर आनत लोचन भर लाए,
जाने क्यों यह बात नहीं मुझ को बिसराती आज तुम्हारी !

शाश्वत प्यास बुझाता जल है ?
या कि नयन का ही मृगछल है ?
ज्ञान-मोह की सीमा-रेखा --
अपनी ही तृष्णा पागल है;

चीर आवरण झाँक चला था,
छाया, माया आँक चला था,
अगर कहीं प्रिय, याद न मुझ को फिर आ जाती आज तुम्हारी !

0 0 0

...पीछे | आगे....

<< पिछला पृष्ठ प्रथम पृष्ठ अगला पृष्ठ >>

लोगों की राय

No reviews for this book