गीले पंख - रामानन्द दोषी Geeley Pankh - Hindi book by - Ramanand Doshi
लोगों की राय

नई पुस्तकें >> गीले पंख

गीले पंख

रामानन्द दोषी

प्रकाशक : आत्माराम एण्ड सन्स प्रकाशित वर्ष : 1959
पृष्ठ :90
मुखपृष्ठ : ईपुस्तक
पुस्तक क्रमांक : 15462
आईएसबीएन :0

Like this Hindi book 0

5 पाठक हैं

श्री रामानन्द 'दोषी' के काव्य-संग्रह ‘गीले पंख' में 33 कविताएं हैं…


9

बीच में हमारे


बीच में हमारे एक दुनिया की दूरी है,
दुनिया न किन्तु मेरी तेरे बिन पूरी है !

जीवन है एक राह, चाह एक इशारा है,
श्वास एक पंथी है, चल-चल के हारा है;
सत्य एक धोखा है, मौत एक बहाना है --
है मंज़िल थकान, कहीं आना न जाना है;

फिर भी मन भटकता है, कौन मजबूरी है ?
बीच में हमारे मजबूरी की दूरी है !

आर-पार धार के दो बेबस किनारे हैं,
किरणों की बाला पर पहरे अंधियारे हैं;
तृप्ति की पराजय को मन क्यों अकुलाता है --
मेरा औ' तेरा बस प्यास एक नाता है;

भोर भेंट पाती नहीं संध्या सिंदूरी है,
बीच में हमारे एक रजनी की दूरी है !

सरिता समर्पित हैं, सिन्धु सकुचाया है,
दूर हँसा चन्दा, तब कहीं ज्वार आया है;
रूठ कर न बैठ, चल, चलना ज़िन्दगानी है--
जब तक प्रवाह, पानी तब तक ही पानी है;

भावना-विहीन, प्राण, साधना अधूरी है,
बीच हम दोनों के भावना की दूरी है !


द्वार-द्वार खोज फिरा, मेरे द्वार आईं तुम,
दूर क्षितिज दृष्टि मेरी, मेरी परछाईं तुम;
दाह अलग चीज़, अलग चीज़ एक अँगारा है --
दाह से न तुष्ट व्यक्ति, इससे ही हारा है;

अग-जग है भटका मृग, पास कस्तूरी है,
बीच में निकटता ही केवल एक दूरी है !

0 0 0

...पीछे | आगे....

<< पिछला पृष्ठ प्रथम पृष्ठ अगला पृष्ठ >>

लोगों की राय

No reviews for this book