तुलसी - आशापूर्णा देवी Tulsi - Hindi book by - Ashapurna Devi
लोगों की राय

नई पुस्तकें >> तुलसी

तुलसी

आशापूर्णा देवी

प्रकाशक : गंगा प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2000
पृष्ठ :72
मुखपृष्ठ : ईपुस्तक
पुस्तक क्रमांक : 15410
आईएसबीएन :81-8113-018-9

Like this Hindi book 0

5 पाठक हैं

आशापूर्णा देवी का लेखन उनका निजी संसार नहीं है। वे हमारे आस-पास फैले संसार का विस्तारमात्र हैं। इनके उपन्यास मूलतः नारी केन्द्रित होते हैं...

2

ननी ने अपने हाथों अपने कान पकड़ लिये।

'नहीं। अब नहीं।'

बहुत चोट लगी है उसे।

अपनी दीदी से ननी ने बड़े ज्ञान की बात भी कही है। कहा है उसने देखो दीदी, अगर तकदीर में सुख ही लिखा होता तो वही सही-सलामत रहती। मरती क्यों? मेरी तकदीर में सुख बदा ही नहीं है, कौन क्या करेगा मेरे लिये? दुबारा शादी तो मैं कर लूँ, मगर यह गारन्टी उसे कौन देगा कि वह भी इसी तरह मर नहीं जायेगी? और फिर, रिश्ते में तुम उसकी चाची हो, मानती थी तुम्हे, इज्जत करती थी तुम्हारी। जो दूसरी आयेगी वह अगर मन्थरा की अवतार हुई तो फिर तुम्हारा हाल क्या होगा? यह सोचा है कभी?'

राद्मा ने कहा था, 'अगर वह ऐसा करेगी, तो मैं समझूँगी कि तुम्हारी शह पाकर ही ऐसा कर रही है। तुम मर्द हो, अगर अपनी औरत को बेलगाम छोड़ दोगे, तो लानत है तुझ पर।'

उदास हो ननी कहता, बात तो तुम्हारी ठीक है दीदी, पर दूसरे के घर से लड़की लाकर उसकी लगाम खींच उसे सीधी करने की मुझे जरूरत ही क्या है? और फिर ऐसा करने की न मेरे मन में इच्छा है, न शक्ति।'

आखिरी कोशिश के रूप में पद्मा ने कहा था, क्या तूने यह सोच रखा है कि जीवन भर मैं ही तेरे बिना माँ के बच्चों की सेवा करती रहूँगी?'

और उदास हो ननी ने जवाब दिया था, करने का मन नहीं है तो मत करो। यतीम खाने भेज दूँगा दोनों को।'

बाप के रहते उन्हें तू यतीम कहेगा?'

'क्या हर्ज है? तुम ही लोग तो कहती हो कि, माँ के मर जाने पर बाप मौसा हो जाता है। उसी सूत्र को पकड़ मैं भी कहूँगा।'

खिसिया गई दीदी। खीझ कर बोली, 'गलती हुई मुझसे जो मैंने तुझसे शादी की बात कही।'

'उससे भी बड़ी गलती है, बीवी मर जाने पर दुबारा शादी करना।' कहा था। ननी ने। 'वेद या पुराणों में सुना है तुमने कि कहीं किसी की सौतेली माँ ने आकर सेवा-टहल की है?'

'सुना क्यों नहीं। बहुतेरा सुना हैं, कहती पद्मा बहन के लिये।

ननी ने कहा, 'तकदीर वाली हो तुम, जो देवी के दर्शन मिले हैं तुम्हें। मेरा परिचय तो, बस ध्रुव के पिता महाराज उत्तानपाद की दूसरी पत्नी रानी सुरुचि से है। परिचय है महारानी कैकेयी से, और रूपकथाओं के राजाओं की प्यारी रानियों से। उन्हें तो भाई दूर से ही नमस्कार है। मानता हूँ, तुम्हें तकलीफ होती है। पर मैं क्या करूँ? तुम्हारे तकदीर में सुख ही होता तो फणी ऐसा हरामी न निकलता। आज उसी की शादी कर हम तुम्हारे लिये घर सम्भालने को बहू ला देते।'

यह विशेषण फणी को अवश्य दिया जा सकता है।

बात तब की है, जब ननी की दूकान खूब चल निकली थी, इधर फणी भी जवान हो चला था, और ननी उस दिन के ख्वाब में मशगूल था कि अब फणी उसके दूकान के कामों में हाथ बँटायेगा, तब एक दिन फणी जी हवा हो गये।

साथ हवा हुए थे ननी की पेटी के रुपये, और ननी की बहू के जेवर।

ज्यादा तो नहीं थे। पर थे तो-कुछ न कुछ।

गले का हार था, हाथों के कड़े थे, कानों के करणफूल थे।

यह सब पद्गा ने कनक के बाप पर दवाब डालकर बनवाये थे। उनका एक रत्ती भर भी न छोड़ा था उसने।

शेर की तरह गरजा था ननी। कहा था,'उस बेईमान को मैं जेल की चक्की पिसवाऊगा। चला मैं थाने में रपट लिखवाने।'

तब नई नवेली दुल्हन कनक ने आकर उसका रास्ता रोका था। उसकी बाँह पकड़ अनुनय से कहा था,'हाथ जोड़ती हूँ, घर की कलंक-कथा बाहर बता कर जग-हँसाई मत करो।' उसकी बात सुन ननी रो पड़ा था। कहा था'तुम्हारा सब कुछ तो वह ले गया। मुझमें यह औकात कहाँ कि दुबारा बनवा दूँ।'

'तुम्हें देना नहीं है।' कहा था बहू ने उस पर आँखें गड़ा कर, 'औरत के लिये तो पति ही सब कुछ है, जेवर कपड़ा नहीं। अबकी जब शहर जाना, मेरे लिये नकली जेवर ले आना।'

'सोना खोकर, नकली जेवर पहनोगी कनक?

बड़े आराम से कनक बोली, क्या फर्क पड़ता है? बल्कि अच्छा ही होगा जेवर का जेवर होगा, चोरी जाने का डर भी नहीं। हमारे बर्द्धवान में कितने ही पैसे वालों की बहुयें यही पहनती हैं। सोने की एकाध चीज के साथ नकली चार पाँच चीजें। उनको कौन क्या कहता है?'

मुस्करा कर ननी ने कहा था, पैसे वालों की बहुओं को जरूर लोग कुछ नहीं कहते हैं, मगर ननीदास की बहू को लोग इस बात पर जरूर कहेंगे।'

'कहें! मेरी बला से। छाले तो नहीं पड़ेंगे मेरे।'

बाहर का चोर अगर चोरी करता तो उसमें नुकसान भर होता, लज्जा या, अपमान नहीं, पर घर का चोर अगर चोरी करता है तो उसमें नुकसान जो है सो है उससे कहीं ज्यादा है लज्जा, अपमान। उसी ज्वाला के मारे ननी ने उस दिन कसम खाई थी, 'लौटने दो उसे जो उसे मैंने फिर अपने घर में घुसने दिया तो मेरे नाम पर थूक देना।'

ननी के नाम पर थूकने का मौका मगर किसी को नहीं मिला। फणी फिर लौट कर नहीं आया। एक कसम ननी ने और भी खाई थी, पर उसे उसने अपने मन में ही रखा था। उसने कसम खाई थी कि वक्त आते ही बहू को सारे जेवर फिर से बनवा देगा। चाहे जितना वक्त क्यों न लगे। मगर इस वचन को पूरा करने का मौका ही नहीं आया कभी। जितना वक्त मिलने से वह यह वचन पूरा करता, कनक ने उतना वक्त तो उसे दिया नहीं।

परिस्थिति जब ऐसी है, तब आलू-चाप और प्याज की पकौड़ी बेच, बहुत-बहुत आमदनी करने की प्रेरणा कहाँ से मिलेगी ननी को?

इसलिये आलू-चाप की परेशानी में न फँस, दिन भर की भाग-दौड़ के बाद, रात गहराते-गहराते, उस टूटी चौकी पर बैठ, तुड़े-मुड़े ताशों का बण्डल ले, टोयेन्टीनाइन खेलना कही ज्यादा अच्छा है।

स्टेशन के आजू-बाजू में बिजली की रोशनी झिलमिला रही है, पर ननी की दुकान में अभी भी वही लालटेन ही झूलती है। गुमटी के छप्पर में ननी ने बाँस की एक खूँटी फँसा दी है। उसी से लटकती रहती है लालटेन। अगर कोई इसके लिये टोकता है ननी को, तो वह अकड़ कर पूछता है, 'मेरी लालटेन की रोशनी बिजली से कुछ कम है क्या? देखो, कितना चकम रही है इसकी चिमनी।'

साफ तो वह जरूर रखता है लालटेन की चिमनी, पर झूलती लालटेन की काँपती रोशनी में ताश खेलना इन लोगों की आदत हो गई है, इसलिये खेल लेते हैं, कोई नया खिलाड़ी आये, तो नहीं खेल सकेगा। कुछ दिखाई ही नहीं पड़ेगा उसे।

तुलसी तो आते ही कहती है, 'इलेक्ट्रिक न ला सको, तो कम से कम एक गैस-बत्ती ही क्यों नहीं ले लेते ननी भैया? ऐसे तो भुतही लगती है दुकान तुम्हारी।'

तुलसी ननी को ही सिर्फ नाम के साथ 'भैया' जोड़ कर पुकारती है। औरों का तो साफ-साफ नाम लेती है।

जवाब में ननी कहता है 'भुतही यह सिर्फ तुझे ही क्यों लगती है? और कोई तो ऐसा कभी नहीं कहता।'

'कहेंगे कैसे? वे तो आप ही भुतहे हैं।'

किस अधिकार के बल पर तुलसी इस तरह की बातें कहती रहती है, यह कोई नहीं बता सकता, पर उल्टी-सीधी बातें कह कर भी वह बड़ी आसानी से पार पा जाती है यह सभी जानते हैं। तुलसी की बदनामी की कोई सीमा नहीं। तुलसी की पीठ फिरते ही उसके विषय में रंग-बिरंगी बातें शुरू हो जाती हैं। उसे आते देखते ही लोग फुसफुसाने लगते हैं, लो, दाँत निपोरती आ गई बेशर्म!' और जो कुछ कहना चाहते हैं लोग, वह अनकहा ही रह जाता है, पर समझते देर नहीं लगती किसी को।

...पीछे | आगे....

<< पिछला पृष्ठ प्रथम पृष्ठ अगला पृष्ठ >>

अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book