Kamayani - Hindi book by - Jaishankar Prasad - कामायनी - जयशंकर प्रसाद
लोगों की राय

ई-पुस्तकें >> कामायनी

कामायनी

जयशंकर प्रसाद

प्रकाशक : भारतीय साहित्य संग्रह प्रकाशित वर्ष : 2016
पृष्ठ :177
मुखपृष्ठ : ईपुस्तक
पुस्तक क्रमांक : 9700
आईएसबीएन :9781613014295

Like this Hindi book 9 पाठकों को प्रिय

92 पाठक हैं

जयशंकर प्रसाद की सर्वश्रेष्ठ रचना


मनु आंख खोलकर पूछ रहे- ''पथ कौन वहां पहुंचाता है?
उस ज्योतिमयी को देव! कहो कैसे कोई नर पाता है?''

पर कौन वहां उत्तर देता! वह स्वप्न अनोखा भंग हुआ,
देखा तो सुंदर प्राची में अरुणोदय का रस-रंग हुआ।

उस लता-कुंज की झिलमिल से हेमाभरश्मि थी खेल रही,
देवों के सोम-सुधा-रस की मनु के हाथों में बेल रही।

0 0 0

...पीछे | आगे....

<< पिछला पृष्ठ प्रथम पृष्ठ अगला पृष्ठ >>

अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book