भूतनाथ - खण्ड 2 - देवकीनन्दन खत्री Bhootnath - Vol. 2 - Hindi book by - Devkinandan Khatri
लोगों की राय

मूल्य रहित पुस्तकें >> भूतनाथ - खण्ड 2

भूतनाथ - खण्ड 2

देवकीनन्दन खत्री

Download Book
प्रकाशक : भारतीय साहित्य संग्रह प्रकाशित वर्ष : 2011
पृष्ठ :284
मुखपृष्ठ : ई-पुस्तक
पुस्तक क्रमांक : 8361
आईएसबीएन :978-1-61301-019-8

Like this Hindi book 1 पाठकों को प्रिय

366 पाठक हैं

भूतनाथ - खण्ड 2 पुस्तक का ई-संस्करण

बारहवाँ बयान


महाराज के बाग में चोर गिरफ़्तार तो हुआ मगर महाराज के पास न पहुँचाया जाकर सीधे दारोगा साहब के पास पहुँचा दिया गया। महाराज के सिपाहियों ने दारोगा साहब की यहाँ तक खातिर की कि उस चोर को पहिचानना तो दूर रहा, आँख से अच्छी तरह देखा भी नहीं और बड़े अफसोस के साथ महाराज से कह दिया कि चोर निकल भागा। बहुत उद्योग करने पर भी गिरफ्तार न हो सका। महाराज को इस बात का बहुत ही दुःख हुआ फिर भी उन्होंने पहरे का इन्तजाम ज्यों-का-त्यों कायम रखा, इस खयाल से कि कदाचित् एक-दो दिन बाद धोखा देकर पुनः वह चोर आवे।

उधर दारोगा अपने सोने वाले कमरे में चारपाई पर बैठा हुआ बड़ी बेचैनी के साथ इस बात का इन्तजार कर रहा था कि महाराज के बाग में चोर गिरफ्तार हो और सीधे मेरे पास चला आवे क्योंकि उसे विश्वास हो गया था कि हो न हो वह चोर भैयाराजा अर्थात् शंकरसिंह ही हैं। वह दरवाजे की तरफ आँख लगाये बैठा अपने दिल से भैयाराजा के बारे में बातें कर रहा था और साथ ही यह भी सोच रहा था कि ‘आज निःसन्देह भैयाराजा गिरफ्तार होकर मेरे पास लाये जायेंगे और अगर ऐसा हुआ तो मैं उसको बिना मारे कभी न रहूँगा, किसी तरह की मुरौवत न करूँगा, आँखें चार होने पर लज्जा तथा भय को पास फटकने न दूँगा। आज मैं पूरा बेमुरौवत, पूरा निर्लज्ज, पूरा बेदर्द और पूरा अत्याचारी बन जाऊँगा मगर उन्हें कदापि जीता न छोड़ूँगा चाहे जो हो, इत्यादि इसी ढंग की बातें विचारता और ख्याली पुलाव पकाता हुआ वह दरवाजे की तरफ देख रहा था कि यकायक दरवाजा खुला और तीन आदमी बेहोश भैयाराजा को उठाये कमरे के अन्दर दाखिल हुए। बड़ी फुर्ती के साथ दारोगा ने नकाब उठाकर चोर के चेहरे पर निगाह डाली और यह जान कर बहुत ही प्रसन्न हुआ कि वह चोर वास्तव में भैयाराजा ही है।

बेहोश भैयाराजा दारोगा साहब के सामने डाल दिये गये। पहिले तो दारोगा के दिल में आया कि भैयाराजा को होश में लाने के पहिले ही कत्ल कर डाले जिसमें चार आँखें न होने पावे मगर फिर कुछ सोच कर रुक गया क्योंकि आज उसने पूरी बेहयाई पर कमर बाँध ली थी, और इसके अलावा कई भेद की बातें भी उनसे दरियाफ्त करनी थीं।

बेईमान दारोगा ने पहिले तो उन तीनों आदमियों की बड़ी तारीफ की और शाबाशी दी और इसके बाद आज्ञा दी कि भैयाराजा को उठाकर दूसरे कमरे में पहुँचा दें जहाँ इसी तरह की निर्दयता के काम किये जाते थे और जो एक तरह पर कैदखाने का काम भी दिया करता था। यहाँ पहुँचाने के बाद भैयाराजा की मुस्कें बाँधी गईं और तीनों आदमियों को विदा कर दारोगा ने उन्हें लखलखा सुँघाया। होश में आने पर उस कैदी ने घबड़ा कर चारों तरफ देखा और जब हाथ में नंगी तलवार लिए दारोगा पर उसकी निगाह पड़ी तो उसे और भी आश्चर्य हुआ। उसने बड़ी बेचैनी के साथ दारोगा की तरफ देखा और तब उससे पूछा, ‘‘मैं कहाँ पर हूँ और यह मकान किसका है?’’

दारोगा : तुम मौत के पंजे में हो और यह मकान यमराज का है।

कैदी : (पुनः अच्छी तरह चारों तरफ देख कर) नहीं नहीं, मैं अच्छी तरह समझ गया कि यह घर आप ही का है, मगर आश्चर्य है कि आप मुझी से दिल्लगी करते हैं!

दारोगा : इसमें दिल्लगी की क्या बात है? मान लो कि यह मेरा ही घर है मगर क्या तुम यह नहीं देखते कि मैं नंगी तलवार लिए तुम्हारा सर काटने को तैयार हूँ?

कैदी : हाँ, देखता हूँ मगर यह मुझे कब विश्वास होने लगा कि आप मेरे ही साथ ऐसा बर्ताव करेंगे!

दारोगा : मैं जरूर ऐसा करूँगा क्योंकि तुम्हारी बदौलत मैं बेतरह संकट में पड़ गया था।

कैदी : ठीक है लेकिन तब इससे यह जाहिर होता है कि तुम्हारी ही बदौलत इस समय मैं अपने को रस्सियों में जकड़ा हुआ देख रहा हूँ।

दारोगा : बेशक ऐसा ही है। मैंने ही तुम्हें गिरफ्तार कराया है, मैंने ही तुम्हारी मुश्कें कसवाई हैं, और मैं ही अब अपने हाथ से तुम्हारा सर काट हमेशा के लिए बेफिक्र हो जाना चाहता हूँ।

कैदी : (क्रोध में आकर) तो क्या तू मुझे मारेगा?

दारोगा : हाँ-हाँ, जरूर मारूँगा, कई दफे तो कह चुका अब कैसे कहूँ?

कैदी : अफसोस! मुझे इस बात की कुछ भी खबर न थी कि इस खुदगरज बेमुरौवत और दुष्ट भाई का साथ देने से मुझे यह दिन देखना नसीब होगा। अगर और ऐसी खबर होती तो तुम बेईमान को कई दफे गहरी आफतों से कदापि न बचाता और अपनी धन-दौलत तेरे हवाले करके तेरे घर का भिखमंगा न बन जाता। अफसोस, अफसोस, मैं यह नहीं जानता था कि भाई की सूरत में एक दुष्ट चाण्डाल आत्मा बसी हुई है, मगर खैर, कोई चिन्ता नहीं, मैं ऐसा कमजोर भी नहीं हूँ कि इन पतली डोरियों से बेबस रह कर तेरे नापाक हाथों से मारा जाऊँगा!!

इतना कहते-कहते उस कैदी को जोश चढ़ आया। उस बहादुर ने झटका देकर हाथ-पैर की रस्सियाँ तोड़ डालीं और ताल ठोंक कर दारोगा साहब के सामने खड़ा होकर बोला, ‘‘हाँ, देख तो सही तू कि तरह मुझे मारता है। तेरे हाथ में तलवार है और मैं खाली हाथ तेरे सामने खड़ा हूँ, देखना तो यह है कि तू मुझे मारता है या मैं तेरा खून चूस कर इस बेइज्जती का बदला चुका लेता हूँ!’’

...पीछे | आगे....

<< पिछला पृष्ठ प्रथम पृष्ठ अगला पृष्ठ >>

अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book