गीले पंख - रामानन्द दोषी Geeley Pankh - Hindi book by - Ramanand Doshi
लोगों की राय

नई पुस्तकें >> गीले पंख

गीले पंख

रामानन्द दोषी

प्रकाशक : आत्माराम एण्ड सन्स प्रकाशित वर्ष : 1959
पृष्ठ :90
मुखपृष्ठ : ईपुस्तक
पुस्तक क्रमांक : 15462
आईएसबीएन :0

Like this Hindi book 0

5 पाठक हैं

श्री रामानन्द 'दोषी' के काव्य-संग्रह ‘गीले पंख' में 33 कविताएं हैं…


21

सुबह की बाँग


समय के मुर्ग ने दी है सुबह की बाँग
खोलो आँख,
देखो, स्वर्ण किरणों ने भरी है आसमानी माँग !
यह बाँग,
जो देती सुनाई
हर दरो-दीवार से,
मीनार से
कोटों-कँगूरों से
कि जिस में जागरण का स्वर मचलता है,
गवाही दे रही है
आज केवल सन, महीना, दिन नहीं बदला,
किन्तु, पूरा युग

बहुत बेचैन हो करवट बदलता है !
तो यह है जागरण-बेला
यह अपने साथ लाई है
कुँआरी-सी,
लजाई-सी,
हज़ारों मधुमयी मुसकान,
जीवन-दायिनी मुसकान !
आज पूरब के अधर पर है कहीं बिरहा,
कहीं कजरी, कहीं मलहार की मृदु तान !
पर न भूलो, इन निरे निर्दोष गीतों को
कुचलने के इरादे, दूर पश्चिम के हृदय में पल रहे हैं।
किस लिए ये एटमी बम ढल रहे हैं ?
यह परीक्षण ही सही,
पर किस लिए रॉकेट आखिर चल रहे हैं ?
ये बदल तेवर जुटे हैं क्यों क्षितिज पर
विद्यु-पंखी तेज वायुयान ?

न भूलो, आज
तुम को घेरने को आ रहे हैं
कुछ कुटिल तूफ़ान।
तुम्हें उन को हटाना है,
किरण-शर से
क्षितिज के पार वाले
धुन्ध को है भेदना,
जड़ से मिटाना है।

जमाना अब नहीं है
अधमुँदी, बेहोश, पी की याद में डूबी,  
अलस मृदु, मौन पलकों का,
किसी के वक्ष पर अठखेलियों में मस्त
अलकों का ;
ये बातें हैं अँधेरे की
उजाले में ज़रा आओ,
किरण-गंगा धरा पर जो उतरती है,
उसे पथ दो,
उसे मन का,समर्पण का,
हृदय के शुद्ध भावों का
सजीला वेगमय रथ दो !
न काँटा हो कहीं पर भी विषमता का
चमन में फूल समता का !
हिमालय की हिमावृत चोटियों से
आज यह आवाज़ देनी है -
कि जागा एशिया, जागा नया इनसान
जिस को हर थके पर में नई परवाज़ देनी है !

उठो!
स्वागत करो इसका कि जो युग आज आया है,
कि कैसे सो सकोगे तुम
तुम्हारे द्वार पर अब जुड़ गया दायित्व का मेला,
कि खोलो आँख साथी,
आ गई है जागरण-बेला।
समय के मुर्ग ने दी है सुबह की बाँग
देखो, स्वर्ण किरणों ने भरी है आसमानी माँग !

0 0 0

...पीछे | आगे....

<< पिछला पृष्ठ प्रथम पृष्ठ अगला पृष्ठ >>

लोगों की राय

No reviews for this book