शुक्रवार व्रत कथा - गोपाल शुक्ला Shukrawar Vrat Katha - Hindi book by - Gopal Shukla
लोगों की राय

कहानी संग्रह >> शुक्रवार व्रत कथा

शुक्रवार व्रत कथा

गोपाल शुक्ला


ebook On successful payment file download link will be available
प्रकाशक : भारतीय साहित्य संग्रह प्रकाशित वर्ष : 2015
आईएसबीएन : 9781613012406 मुखपृष्ठ : ई-पुस्तक
पृष्ठ :18 पुस्तक क्रमांक : 9846

Like this Hindi book 1 पाठकों को प्रिय

इस व्रत को करने वाला कथा कहते व सुनते समय हाथ में गुड़ व भुने चने रखे, सुनने वाला सन्तोषी माता की जय - सन्तोषी माता की जय बोलता जाये

इस व्रत को करने वाला कथा कहते व सुनते समय हाथ में गुड़ व भुने चने रखे, सुनने वाला सन्तोषी माता की जय - सन्तोषी माता की जय बोलता जाये। कथा समाप्त होने पर हाथ का गुड़-चना गौ माता को खिला दे। कलश में रखा हुआ गुड़ चना सबको प्रसाद के रूप में बांट दे। कथा से पहले कलश को जल से भरें, उसके ऊपर गुड़-चने से भरा कटोरा रखें। कथा समाप्त होने पर आरती के बाद कलश के जल को घर में सब जगह छिड़कें तथा कुछ जल तुलसी के गमले में डाल दें। व्रत के उद्यापन में पूड़ी, खीर, चने के साग का नैवेद्य रखें। घी का दीपक जलाकर सन्तोषी माता की जय बोलकर नारियल फोड़ें। इस दिन घर में कोई सदस्य खटाई न खायें तथा किसी को खानें भी न दें। इस दिन 8 बालकों को भोजन करायें। घर में यदि बालक कम हों तो कुटुम्ब के या ब्राह्मणों के या पड़ोस के बालकों कों भोजन करायें। उन्हे भोजन में कोई खट्टी वस्तु न दें तथा भोजन के बाद यथा शक्ति दक्षिणा दे।

अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book